Hindi Shayari

मे अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किस से माँगता

Mohabbat Mein Bewafa Shayari

 

वो मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी,
वो अपनाने और ठुकरानी की अदा भी तेरी थी,
मे अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किस से माँगता..
वो शहेर भी तेरा था, वो अदालत भी तेरी थी!

 

मैं बेवफा हूँ या तुझको बेवफा समझू

Bematlab Ka Pyar Shayari For Bewafa

तेरे होने पर खुद को तनहा समझू !
मैं बेवफा हूँ या तुझको बेवफा समझू !!
ज़ख्म भी देते हो मलहम भी लगाते हो !
ये तेरी आदत हैं या इसे तेरी अदा समझू !!

 

तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी

Sad Shayari In Hindi For Love Bewafa

 

Sad Shayari In Hindi For Love Bewafa

 

तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी,
वरना हमको कहाँ तुम से शिकायत होगी,
ये तो वही बेवफा लोगों की दुनिया है
तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी।