Dil Lagane Ki Saza Shayari

कहाँ से लाऊ हुनर उसे मनाने का,
कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का,
मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी
क्यूंकी जुर्म मैंने किया था उससे दिल लगाने का।

टूट के गिरा गुलाब हूँ शायरी

Sad Rose Day Shayari In Hindi For Girlfriend Boyfriend

 

 

टूट के गिरा गुलाब हूँ,
में खुद अपनी तबाही का जवाब हूँ,
यूँ निगाहें ना फेरना मुझसे सनम
तेरी चाहत में ही हुआ बर्बाद हूँ।

 

यह भी देखे : Rose Day Shayari For Girlfriend Boyfriend

 

जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो शायरी

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

 

मौसम की तरह लोग बदल जाते हैं शायरी

मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं,
हैं मौसम की तरह लोग… बदल जाते हैं,
हम अभी तक हैं गिरफ्तार-ए-मोहब्बत यारों,
ठोकरें खा के सुना था कि संभल जाते हैं।