Hindi Shayari

गम-ए-तन्हाई शायरी

Gham-E-Tanhai Shayari

 

ना पूछो हालत मेरी रूसवाई के बाद,
मंजिल खो गयी है मेरी, जुदाई के बाद,
नजर को घेरती है हरपल घटा यादों की,
गुमनाम हो गया हूँ गम-ए-तन्हाई के बाद!!

 

Read More: Sad Love Broken heart Shayari For Gf Bf

हर रिश्ते को अजमाया है हमने

Sad Rishte Shayari In Hindi

 

हर रिश्ते को अजमाया है हमने,
कुछ पाया पर बहुत गवाया है हमने,
हर उस शख्स ने रुलाया है
जिसे भी हमने इस दिल में बसाया है।

तेरी दुनिया से दूर चला जाऊंगा शायरी

Teri Duniyan Se Dur Chala Jaunga Shayari

 

आखरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लूँ,
लौट के फिर तेरी महफ़िल में नहीं आऊंगा,
अपनी बर्बाद मोहब्बत का जनाजा ले कर
तेरी दुनिया से बहुत दूर चला जाऊंगा।

वो क्या जाने दर्द-ऐ-मोहब्बत क्या है

Dard E Mohabbat Shayari In Hindi

 

बरसों गुजर गए रो कर नहीं देखा,
आँखों में नींद थी सो कर नहीं देखा,
वो क्या जाने दर्द-ऐ-मोहब्बत क्या है
जिसने कभी किसी का होकर नहीं देखा।

 

यह भी देखे : मोहब्बत की सच्चाई शायरी

दिल को पत्थर बना लिया शायरी

Dil Ko Pathar Bana Liya Shayari

 

तनहाइयों के शहर में एक घर बना लिया,
रुसवाइयों को अपना मुक़द्दर बना लिया,
देखा है हमने यहाँ पत्थर को पूजते हैं लोग
इसलिए हमने भी अपने दिल को पत्थर बना लिया।

 

 

तुम भी छोड़कर चले गए

Tum Bhi Chhod Kar Chale Gaye Shayari

 

फुर्सत किसे है ज़ख्मों को सरहाने की,
निगाहें बदल जाती हैं अपनों-बेगानों की,
तुम भी छोड़कर चले गए हो हमें ओ सनम
अब तो तमन्ना ही नहीं रही किसी और से दिल लगाने की।

चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो

Sad Shayari For Love Before Death

 

चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
जिंदगी वीरान थी और मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।

 

क्या भीख मांगे अब जीवन की

Sad Dard Bhari Love Life Shayari

 

वह बेगानो में अपने,
हम अपनों में अनजान लगते हैं,

हमारे खून की कीमत नहीं,
उनके अश्कों के भी दाम लगते हैं,

क्या भीख मांगे
ऊपर वाले से अब जीवन की,

अब तो यह लम्हे,
चाँद दिनों के मेहमान लगते हैं।

 

दर्द भरी होली शायरी

Sad Holi Dard Bhari Shayari Sms With Image

 

Sad holi dard bhari shayari

 

टूटे दिल से कैसे मनाओ,
इस होली में कैसे मुस्कुराऊं,
मेरे हाथ तो भीगे हैं आंसुओं से मेरे
इन हाथों से कोई रंग कैसे उठाऊं।

 

यह भी देखे : अंग से यूँ अंग