Hindi Shayari

दिल को पत्थर बना लिया शायरी

Dil Ko Pathar Bana Liya Shayari

 

तनहाइयों के शहर में एक घर बना लिया,
रुसवाइयों को अपना मुक़द्दर बना लिया,
देखा है हमने यहाँ पत्थर को पूजते हैं लोग
इसलिए हमने भी अपने दिल को पत्थर बना लिया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *