वो ना कहे कर तड़पाते रहते है

Hindi Shayari On Wo Naa Khe Kar Tadpate Rehte Hain

 

Hindi Shayari On Wo Naa Khe Kar Tadpate Rehte Hain

 

हम हां सुनने को बेकरार है,
वो ना कहे कर तड़पाते रहते है,
मेरी छोटी सी ज़िन्दगी में
यूँही कशमकश बढ़ाते रहते है.

Leave a Comment.