इश्क का मुझे क्या ख्वाब आ गया

Ishq Shayari On Isqh Ka Khwab Aa Gaya

 

इश्क का मुझे क्या ख्वाब आ गया,
समझ गया में मेरा भी वक्त ख़राब आ गया,
सनम आये या ना आये
मुझे तारे गिनने का तो हिसाब आ गया.

Leave a Comment.