अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​ – शायरी

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।
~ Rahat Indori

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *